Wednesday, April 17, 2024

500 रुपयें से शुरू हुईं कंपनी, आज 2 हजार शहरोँ में फैली! Dogma Soft Success Story in Hindi

बिना डिग्री बनाई आईटी कंपनी, ग्रामीणों कों बना रहें स्मार्ट!!! 

दि चाहत हों कुछ कर गुजरने की तो मुश्किले कभी बाधक नहीँ बनतीं | इस कथन को साबित कर दिखाया हैं श्री गंगानगर ज़िले के एक छोटे से गाँव ताखरांवाली से आये दो भाइयों पवन एवंम श्याम गोदारा ने, साथ ही यह एक मसैजे हैं उन लोगों के लिये जो विपरीत परिस्तिथियों का रोना रोते हैं | Dogma Soft 500 रूपये पे start हवी थी आज वो २००० शहेरो में फैली हवी है |

इन दोनों भाइयों का बचपन एक मध्यम परिवार में गुजरा है | इनके पिता किसान हैं | इन्होंने पढाई गाँव के सरकारी स्कूल में की हैं और ग्रेजुएशन राजकीय महाविधालय से की वों भी आर्ट्स में | इनके पास कोई आइआइटी या इंजीनियरिंग की टेक्निकल डिग्री नहीं हैं, ना ही किसी आईटी company में जॉब की, ना ही बिज़नेस का family background हैं और सबसे बड़ी बात ना ही इनको एक भी रुपयें की कोई funding हुईं|

पैसों के अभाव में डोएअक सोसाइटी से स्वयंपाठी के तोर पर computer के course कियें | फिर भी इन दोनोँ भाइयों ने आज Dogma Soft को Public Limited company बनातें हुयें अपनी कड़ी मेंहनत यवं सच्ची लगन से देश के कोने-कोने में पंहुचा दिया |

Dogma Soft 

पवन ने बताया कि 2007 में जयपुर आये तब कई जगह नौकरी की और बच्चो कों tution पढ़ाया | फिर दोस्तों ने IT Business के बारे में बताया | लेकिन तब हमें Business के बारे में कुछ भी पता नहीं था | हम दोनों भाइयों ने 2009 में company की planing start की और 29 जनवरी 2010 को 500 रूपये में registration करा के एक छोटे से कमरे से Company की नीव रखीं, जिसका साइज़ एक चारपाई जीतना था इसी में हम दोनों भाई रहतें भी थे | IT Company के लिए computer सबसे जरुरी होता है | इसलिए सबसे पहले एक computer किश्तों पर ख़रीदा और softwere एवं website का काम start किया |

फिर एक दिन सोचा की हम सिर्फ website company हैं और कोई भी IT Company एक निश्चित दायरे में ही होती है, तो देश के कोने–कोने में Ground Level पर केसे अपनी पहचान बनाई जाये ?, और देश व आम आदमी के लिये हर क्षेत्रमें कुछ किया जायें ? और फिर हमनें हमारा नेटवर्क बनाना स्टार्ट किया क्योंकि ये जब ही सम्भव था तब हमारे पास देश के हर राज्य, जिला, शहर, तहसील, पंचायत, गाँव में डोग्मा का कोई नेत्रत्व करे और

आज डोग्मा सॉफ्ट लिमिटेड़ देश के 34 राज्यों, केंद्रशासित प्रदेश , 613 जिलों में 10,000 बिज़नेस पार्टनर्स के साथ काम कर रहीं हैं |

साथ की साथ हमने IT का यूज़ कर के हर क्षेत्र के लिए काम करना start किया |

आज हम Startup company के लिए registration से लेकर उनके business की online process के लिए IT  Service कम से कम पैसों में उपलब्ध करवा रहें हैं |तभी तो आज हमारें पास जम्मू से सेलम तक client है |साथ-साथ SME को अवेयर कर रहें है कि वों उनके व्यापार कों बढ़ाने के लिये, वो डिजिटल मीडिया का आसान तरीकें से कैसे यूज़ करे ?

जों Businesman हैं उनको IT से जोड़कर उनकें business की world level पर पहचान बनाने में सहायता कर रहें हैं  और जों बड़े brand है उनको देश के हर कोने में ग्रामीण क्षेत्र तक हमारें business Partner के मध्यम से पंहुचा सकतें हैं |भारत में आज भी online company कों लोगों को लोकल भरोशा दिलाने व समझाने के लिये, offline team की जरुँरत हैं |

“500 रुपयें से शुरू हुईं कंपनी, आज 2 हजार शहरोँ में फैली!”

उन्होंने सोचा की शहर जैसी सभी सुविधायें यदि गाँवो में प्रदान की जाये तो, रोजगार के साथ-साथ ग्रामीण भारत के लोगों को शहर आने की जरुरत नहीं पड़ेगी | उससे इंधन, पैसा व समय बचेगा एवं सड़कों पर ट्रैफिक कम होगा और दुर्घटनाओ में भी कमी आएगी |

 

उसके लिए एवं डिजिटल इंडिया में सहयोग देने एवं लोगो को स्मार्ट बनाने के लिए “B Smart Citizen” application बनाई, इस application का main उधेश्य आम लोगों को IT के तहत daily life के कार्य जैसेः Recharge, बिल भुगतान, एटीएम,Bus, train, flight, hotel, टेक्सी बुकिंग, मिनी बैंक, शॉपिंग आदि सुविधाये उपलब्ध करवाना |

श्याम ने बताया कि आज ज्यादातर स्टार्टअप कंपनिया फंडिग बेस हैं उनका कोंई रेव्नेयू मॉडल नहीं होता | जब तक रेव्नेयू मॉडल नहीं होता, बिज़नेस आगे नहीं बढ़ सकता | जो इस तरीकें से कंपनी का मॉडल नहीं रखते, ऐसी कंपनिया थोड़े दिन में बंद हो जाती हैं | हमनें कंपनी की शुरुआत से अब तक एक रुपया भी कंही से फंडिंग के नाम पर नहीं लिया |

भारत में बेरोजगारी आज एक महामारी का रूप ले चुकीं हैं तों इसे देखते हुये अब उनका मुख्य उधेश्य है कि रूरल इन्तेर्प्रेनिऔर्शिप को बढावा देते हुये लोगों कों उनकें क्षेत्र में बिना किसी निवेश के रोजगार उपलब्ध करवाना | इससे आसपास के एरिया / गाँव के लोगों को आईटी के माध्यम से डेली रूटीन की समस्याओं का समाधान मिले और हम 20 लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध करवा कर देश की सबसे बड़ी जॉब देने वाली कंपनी बनें |

दोस्तों , अगर आप इस inspiration story  की तरह का article लिखना पसंद हे तो आप हमे आपने article email के माध्यम से भेज शकते हो | हम उसे ये blog पे publish करेगे | ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ पर click करे

desirehindi
desirehindihttps://desirehindi.com/contact-us/
Desire Hindi is a fastest growing motivational Youtube Channel in India. Every week we have share animated book summary in the Hindi language. We believe that if we read books, it improves our life. Now Desire Hindi family is 888k! (Sub). Join our Community and improve your life.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,800FansLike
3,569FollowersFollow
255FollowersFollow
871,898SubscribersSubscribe

Latest Articles